भगवान ने एक *बुढे* से पूछा:
अब तुम्हारा बुढ़ापा आ गया है।

कर्म के हिसाब से मुझे तुमको बीमारी देनी होगी।

तुम्हारी भक्ति की वजह से दो में से एक बीमारी चुनने का मौका देता हूँ।

या तो *याददाश्त* खो जाएगी
या *हाथ पैर काँपेंगे।*

*बुढे* ने अपने *मित्र* से पूछने की इजाजत लेकर *मित्र* से पूछा। *मित्र* ने कहा कि *हाथ पाँव काँपने* की बीमारी माँगना।
क्योंकि
गिलास में से एकाध *पेग* छलक जाए तो कोई बात नहीं।
पर
*बोतल* रखी कहाँ हैं, ये ही भूल जाओ तो *भारी मुश्किल* हो जाएगी। 😝😝😝😝😝

*एक सच्चा दोस्त गलत सलाह कभी नही देता।।*

Leave a Reply